जीवन पर कविताएँ

जहाँ जीवन को स्वयं कविता

कहा गया हो, कविता में जीवन का उतरना अस्वाभाविक प्रतीति नहीं है। प्रस्तुत चयन में जीवन, जीवनानुभव, जीवन-संबंधी धारणाओं, जीवन की जय-पराजय आदि की अभिव्यक्ति देती कविताओं का संकलन किया गया है।

इतना कुछ था

कुँवर नारायण

एक दिन

अखिलेश सिंह

इसी जन्म में इस जीवन में

केदारनाथ अग्रवाल

जीवन-चक्र

रवि प्रकाश

तो फिर वे लोग कौन हैं?

गुलज़ार हुसैन

आत्म-मृत्यु

प्रियंका दुबे

ओ मेरी मृत्यु!

सपना भट्ट

सौंदर्य

निरंजन श्रोत्रिय

चश्मा

राजेंद्र धोड़पकर

पितृ-स्मृति

आदर्श भूषण

सेवानिवृत्ति

अविनाश मिश्र

आगे जीवन है

अविनाश मिश्र

दुनियाएँ

प्रदीप्त प्रीत

लगभग सुखमय!

सुशोभित

जड़ें

राजेंद्र धोड़पकर

सबसे पहले

हेमंत कुकरेती

मैंने जीवन वरण कर लिया

कृष्ण मुरारी पहारिया

जीवनवृक्ष

राधावल्लभ त्रिपाठी

अपना-अपना तरीक़ा

जितेंद्र रामप्रकाश

जीवन और मृत्यु

लक्ष्मण गुप्त

बेघर

सुधांशु फ़िरदौस

चूका हुआ निशाना

कृष्ण कल्पित

उम्र

सारुल बागला

डरता रह गया

सोमदत्त

घाव को घाव ही कहा

वियोगिनी ठाकुर

ज़िंदगी

रहमान राही

कौन बताएगा

प्रमोद वर्मा

सीखना

गार्गी मिश्र

ठीक-ठीक कितने वर्ष का था

रामकुमार तिवारी

जश्न-ए-रेख़्ता (2022) उर्दू भाषा का सबसे बड़ा उत्सव।

फ़्री पास यहाँ से प्राप्त कीजिए