प्रेम पर कविताएँ

प्रेम के बारे में जहाँ

यह कहा जाता हो कि प्रेम में तो आम व्यक्ति भी कवि-शाइर हो जाता है, वहाँ प्रेम का सर्वप्रमुख काव्य-विषय होना अत्यंत नैसर्गिक है। सात सौ से अधिक काव्य-अभिव्यक्तियों का यह व्यापक और विशिष्ट चयन प्रेम के इर्द-गिर्द इतराती कविताओं से किया गया है। इनमें प्रेम के विविध पक्षों को पढ़ा-परखा जा सकता है।

तुम्हारे साथ रहकर

सर्वेश्वरदयाल सक्सेना

प्रेमपत्र

बद्री नारायण

चोरी

गीत चतुर्वेदी

प्रेमिकाएँ

अखिलेश सिंह

मुलाक़ातें

आलोकधन्वा

कितना अच्छा होता है

सर्वेश्वरदयाल सक्सेना

प्रेम की गालियाँ

बाबुषा कोहली

इतना कुछ था

कुँवर नारायण

एक और ढंग

श्रीकांत वर्मा

तुमसे अलग होकर

सर्वेश्वरदयाल सक्सेना

सुनो चारुशीला

नरेश सक्सेना

प्रेम लौटता है

गौरव गुप्ता

प्रेम की जगह अनिश्चित है

विनोद कुमार शुक्ल

प्रेमपत्र

सुधांशु फ़िरदौस

या

सौरभ अनंत

प्रेम कविता

गीत चतुर्वेदी

देना

नवीन सागर

प्रेम के आस-पास

अमर दलपुरा

ट्राम में एक याद

ज्ञानेंद्रपति

इंतज़ार तुम्हारा

अंजुम शर्मा

इक आग का दरिया है...

रमाशंकर यादव विद्रोही

साथी

अंकिता शाम्भवी

छूना मत

सविता भार्गव

पंजे भर ज़मीन

पराग पावन

तुम्हारे लिए

अष्टभुजा शुक्‍ल

किताबें

गौरव गुप्ता

गुनाह का दूसरा गीत

धर्मवीर भारती

अ-प्रेम कविता

मृगतृष्णा

तुम आईं

केदारनाथ सिंह

प्रेम का समाजवाद

अनुराधा सिंह

धूप की भाषा

श्रीनरेश मेहता

पार करना

प्रदीप सैनी

जश्न-ए-रेख़्ता (2022) उर्दू भाषा का सबसे बड़ा उत्सव।

फ़्री पास यहाँ से प्राप्त कीजिए