संसार पर कविताएँ

‘संसरति इति संसारः’—अर्थात

जो लगातार गतिशील है, वही संसार है। भारतीय चिंतनधारा में जीव, जगत और ब्रहम पर पर्याप्त विचार किया गया है। संसार का सामान्य अर्थ विश्व, इहलोक, जीवन का जंजाल, गृहस्थी, घर-संसार, दृश्य जगत आदि है। इस चयन में संसार और इसकी इहलीलाओं को विषय बनाती कविताओं का संकलन किया गया है।

अंतिम ऊँचाई

कुँवर नारायण

सौंदर्य

निरंजन श्रोत्रिय

उदाहरण के लिए

नरेंद्र जैन

स्‍त्री और आग

नवीन रांगियाल

घर

ममता बारहठ

मेरे अभाव में

अखिलेश सिंह

सन् 3031

त्रिभुवन

कवियों के भरोसे

कृष्ण कल्पित

धीरे-धीरे नष्ट करते हैं

रामकुमार तिवारी

इतना सहज नहीं है विश्व

पंकज चतुर्वेदी

दुनिया का कोण

नवीन रांगियाल

जिताती रहीं हार कर

राही डूमरचीर

व्याख्या

नेमिचंद्र जैन

ज़रूरी है बचाना

अंजुम शर्मा

इस दुनिया में ही

राही डूमरचीर

धरती पर जीवन सोया था

रामकुमार तिवारी

लय

कैलाश वाजपेयी

किम् आश्चर्यम्?

आशुतोष दुबे

दुनिया बदलना

अशोक वाजपेयी

आजकल

जितेंद्र कुमार

दुनिया जगत

विनोद कुमार शुक्ल

दुनिया के लिए ज़रूरी है

विवेक चतुर्वेदी

कभी जब

विमलेश त्रिपाठी

दुनिया

श्रुति गौतम

सोचना

अनुराधा अनन्या

शीर्षासन

हरि मृदुल

जीवन-राग/5

ब्रजरतन जोशी

जो करना है अभी करो

कमल जीत चौधरी

नई दुनिया के लिए

संज्ञा सिंह

नई दुनिया

शुभम् आमेटा

तब भी बचेगी दुनिया

नंद चतुर्वेदी