नींद पर कविताएँ

नींद चेतन क्रियाओं के

विश्राम की नित्यप्रति की अवस्था है। प्रस्तुत चयन में नींद के अवलंब से अपनी बात कहती कविताओं का संकलन किया गया है।

नींद में रुदन

सविता सिंह

प्रेम के आस-पास

अमर दलपुरा

थकन

सारुल बागला

सोने से पहले

मंगलेश डबराल

आज रात बारिश

सविता भार्गव

?

गगन गिल

नींद में

विष्णु खरे

मुझे नींद नहीं आती

कैलाश वाजपेयी

नींद के रहस्य

मोनिका कुमार

पुराना तकिया

विजया सिंह

अकेला नहीं सोया

कृष्ण कल्पित

नींद के बारे में

लवली गोस्वामी

नींद

प्रकाश

अनचाहा मैं

लीलाधर जगूड़ी

हमारी नींद

वीरेन डंगवाल

उखड़ी हुई नींद

गिरधर राठी

घोषणा

अरुण कमल

तलाशी

गीत चतुर्वेदी

नींद ही है कि सच है

आदित्य शुक्ल

चक्र

नीलेश रघुवंशी

रात

मानव कौल

अपनी यातना में

सविता सिंह

स्तंभ

अविनाश

नींद में तुम्हारे संग

वियोगिनी ठाकुर

नींद क्यूँ नहीं आती

राजेंद्र देथा

नींद

मानव कौल

नींद

अनुराग अनंत

सुंदर उदिता

सविता सिंह

नींद में आग

शंकरानंद

दस्तकें

ममता बारहठ

इस घर में

नवीन सागर

इतनी गहरी नींद

नीलेश रघुवंशी

शहंशाह की नींद*

उमा शंकर चौधरी

अधूरी नींद का गीत

लवली गोस्वामी

कोई एक भी

पारुल पुखराज

पुनरोदय

दिनेश कुमार शुक्ल

नींद

राहुल राजेश

रज़ाई

विजया सिंह

अज्ञात की सुध में

पारुल पुखराज