भाषा

भाषा चाहै होय जो, गुन गन हैं जा माहिँ।

ताहीं सो उपकार जग, सबै सराहहिं ताहि॥

सुधाकर द्विवेदी

संबंधित विषय