झूठ पर कविताएँ

झूठ मिथ्या या असत्य

वचन है। इसे सत्य का छद्म या भ्रम भी कहा जाता है। यहाँ झूठ शब्द-केंद्र पर परिधि पारती कविताओं का एक चयन प्रस्तुत है।

वस्तुओं का न्याय

कुमार अम्बुज

झूठ बोलती लड़कियाँ

ज्योति चावला

नई संस्कृति

दूधनाथ सिंह

वे मुझसे झूठ बोलते हैं

राजकुमार कुंभज

पते की बात

अतुलवीर अरोड़ा

जश्न-ए-रेख़्ता (2022) उर्दू भाषा का सबसे बड़ा उत्सव।

फ़्री पास यहाँ से प्राप्त कीजिए