न्याय पर कविताएँ

महाभारत

अच्युतानंद मिश्र

मेरे दरवाज़े सुबह

पंकज चतुर्वेदी

ऊपरवाला

कविता कादम्बरी

वस्तुओं का न्याय

कुमार अम्बुज

बुनियाद

विंदा करंदीकर

इस तरह मुक़दमे चले

चंद्रकांत देवताले

फ़ैसला

विनोद भारद्वाज

चंडीगढ़ 2017

गिरिराज किराडू

सज़ा

अनिरुद्ध उमट

अंधायुग

संगीता गुंदेचा

तलाक़

निशांत

जस्टिस कर्णन

पंकज चौधरी

रचना

शैलजा पाठक

ख़तरनाक

लीलाधर मंडलोई

न्याय

आलोक आज़ाद

न्याय

अशोक कुमार पांडेय

इंसाफ़

फ़रीद ख़ाँ

शिनाख़्त

प्रभात त्रिपाठी

न्याय

परमानंद श्रीवास्तव

जश्न-ए-रेख़्ता (2022) उर्दू भाषा का सबसे बड़ा उत्सव।

फ़्री पास यहाँ से प्राप्त कीजिए