कवि पर कवि पर उद्धरण

एक कवि की दूसरे कवि

पर लिखी गई कविता।

सरलता का आकाश जैसे त्रिलोचन की रचनाएँ।

शमशेर बहादुर सिंह

मैं महत्त्व देता हूँ—‘प्रिय’ होने को। और ज़रूरी नहीं है कि जो कवि मुझे प्रिय हो, वही कवि आपको भी प्रिय हो।

राजकमल चौधरी

अज्ञेय से पहले हिंदी का कोई ऐसा कवि नहीं हुआ जो शुद्ध रूप से नागरिक कवि हो।

केदारनाथ सिंह

संबंधित विषय