सुबह पर कविताएँ

उम्मीद

विमलेश त्रिपाठी

अगले सबेरे

विष्णु खरे

मेरे दरवाज़े सुबह

पंकज चतुर्वेदी

विहान

लक्ष्मण गुप्त

भोर का तारा

घनश्याम कुमार देवांश

उषा

शमशेर बहादुर सिंह

सुबह की दुआ

असद ज़ैदी

साफ़ सुबह

निर्मला गर्ग

हिसाब

शक्ति महांति

प्रस्थान

अमिताभ चौधरी

सुबह

जितेंद्र कुमार

सबेरा हुआ है

वंशीधर शुक्ल

स्तंभ

अविनाश

सुबह आती नहीं लाई जाती है

सौरभ सिंह क्रांतिकारी

अगली सुबह

योगेंद्र गौतम

उषस्

श्री नरेश मेहता

सुबह

कुलदीप कुमार

सुबह का इंतज़ार

दिलीप शाक्य

रात जब सो रही है

चित्रा सिंह

सुबह की शुरुआत

अनुपम सिंह

सुबह-सुबह

नागार्जुन

भोर का पाखी

मनोरमा बिश्वाल महापात्र

नए साल की सुबह

दिनेश कुशवाह

सखि, जागो!

तारा पांडे

उदास सुबह

अशोक कुमार

प्रभात

केदारनाथ अग्रवाल

प्रत्यूष के पूर्व

रामविलास शर्मा

लोकतंत्र की एक सुबह

कमल जीत चौधरी

फूटा प्रभात

भारतभूषण अग्रवाल

रोज़ सुबह

नवल शुक्ल

भोर... होने को है

विवेक चतुर्वेदी

धूप की किताब

प्रकाश मनु

आभास

कन्हैयालाल सेठिया

भोर का गीत

अजीत रायज़ादा

सुबह

विनोद दास

सुखद सबेरा

संज्ञा सिंह

सुबह

विशाल श्रीवास्तव

चम्पई सुबह

केतन यादव

मुँह अँधेरे

अनाम कवि

सवेरा

योगेंद्र गौतम

जश्न-ए-रेख़्ता (2023) उर्दू भाषा का सबसे बड़ा उत्सव।

पास यहाँ से प्राप्त कीजिए