पेड़

हरी डारि तोड़िए, लागै छुरा बान।

दास मलूका यों कहें, अपना सा जिब जान॥

मलूकदास

संबंधित विषय