क्रांति पर उद्धरण

जल विप्लव है।

गजानन माधव मुक्तिबोध

विचार कविता का एक अंश है।

वेणु गोपाल

कविता क्रांति ले आएगी, ऐसी ख़ुशफ़हमी मैंने कभी नहीं पाली, क्योंकि क्रांति एक संगठित प्रयास का परिणाम होती है, जो कविता के दायरे के बाहर की चीज़ है।

केदारनाथ सिंह

आने वाली क्रांति केवल रोटी की क्रांति, समान अधिकारों की क्रांति ही होकर जीवन के प्रति नवीन दृष्टिकोण की क्रांति, मानसिक मान्यताओं की क्रांति तथा सामाजिक अथच नैतिक आदर्शों की भी क्रांति होगी।

सुमित्रानंदन पंत

जो भी विचार ख़ुद के विरुद्ध जाता है, वह ख़ुद को चाटना शुरू कर देता है।

दूधनाथ सिंह

संबंधित विषय