मातृभाषा पर कविताएँ

मातृभाषा किसी व्यक्ति

की वह मूल भाषा होती है जो वह जन्म लेने के बाद प्रथमतः बोलता है। यह उसकी भाषाई और विशिष्ट सांस्कृतिक पहचान का अंग होती है। गांधी ने मातृभाषा की तुलना माँ के दूध से करते हुए कहा था कि गाय का दूध भी माँ का दूध नहीं हो सकता। कुछ अध्ययनों में साबित हुआ है कि किसी मनुष्य के नैसर्गिक विकास में उसकी मातृभाषा में प्रदत्त शिक्षण सबसे महत्त्वपूर्ण होता है। इस चयन में मातृभाषा विषयक कविताओं को शामिल किया गया है।

उर्दू को उत्तर

बालमुकुंद गुप्त

हिंदी

प्रभात

खड़ी बोली

अविनाश मिश्र

मातृभाषा की मौत

जसिंता केरकेट्टा

दूसरा कोना

मनोज कुमार झा

मालवी

राधावल्लभ त्रिपाठी

हिंदी का नमक

कमल जीत चौधरी

मैं बनारसी हूँ

सदानंद शाही

चंडीगढ़ 2017

गिरिराज किराडू

भाषा

गौरव भारती

रामबचन भगत

जितेंद्र श्रीवास्तव

मेरी माँ की ज़ुबान

दीपक जायसवाल

ठक बहादुर माझी

प्रदीप त्रिपाठी

भाषा

वीरू सोनकर

परवा लेदु

सौरभ राय

भोजपुरी

सिद्धेश्वर सिंह

उर्दू के स्कूल गए

सौम्य मालवीय

भाषा-विवाद

निर्मला तोदी

विश्व-कविता

प्रेमशंकर शुक्ल