Dhumil's Photo'

‘अकविता’ आंदोलन के समय उभरे हिंदी के चर्चित कवि। मरणोपरांत साहित्य अकादेमी पुरस्कार से सम्मानित।

‘अकविता’ आंदोलन के समय उभरे हिंदी के चर्चित कवि। मरणोपरांत साहित्य अकादेमी पुरस्कार से सम्मानित।

धूमिल के उद्धरण

111
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

कविता का एक मतलब यह भी है कि आप आज तक और अब तक कितना आदमी हो सके।

कविता आदमी को मार देती है। और जिसमें आदमी बच गया है, वह अच्छा कवि नहीं है।

कविता की असली शर्त आदमी होना है।

कविता की कोई नैतिकता नहीं होती।

आधुनिकता वह है जिस पर अतीत अपना दावा कर सके।

कहानी क्या कविता का शेषार्थ है?

कविता हिंसा की हिंसा करती है।

वीरता… बर्बरों की भाषा है।

कहीं भी आग लगना बुरा है, मगर यह उत्साह पैदा करता है। आग आदमी को आवाज़ देकर सामने कर देती है।

अंधे आदमी की आँख उसके पैर में होती है।

  • संबंधित विषय : आँख

इस ज़माने में संबंध सिर्फ़ वे ही निभा सकते हैं जो मूर्ख हैं।

ठाठ, बाट और टाट ये तीनों कविता के दुश्मन हैं।

कविता किसी से सहानुभूति नहीं माँगती।

ममता, अक्सर, दरिद्रता की पूरक होती है।

किसी लेखक की किताब उसके लिए एक ऐसी सुरंग है जिसका एक सिरा रचना की लहलहाती फूलों भरी घाटी में खुलता है, बशर्ते कि वह (लेखक) उससे (सुरंग के अंधकार से) उबरकर बाहर सके।

कविता अश्लील नहीं होती।

aaj ik aur baras biit gayā us ke baġhair

jis ke hote hue hote the zamāne mere

Recitation

जश्न-ए-रेख़्ता (2023) उर्दू भाषा का सबसे बड़ा उत्सव।

पास यहाँ से प्राप्त कीजिए