अवसाद पर कविताएँ

अवसाद अपने सामान्य अर्थ

में उदासी, रिक्तता, निराशा, हताशा, ग्लानि, चिंता आदि को प्रकट करता है और इन्हें कविता और कला के लिए उत्प्रेरक लक्षणों की तरह देखा गया है। अपने गंभीर लक्षणों में यह एक मनोविकार है जो स्वयं के प्रति या दुनिया के प्रति हिंसा में भी बदल सकता है। मनोगतता से इसके संबंध के कारण यह हमेशा से कविता का विषय बनता रहा है।

नवस्तुति

अविनाश मिश्र

उदास लड़के

घुँघरू परमार

आत्म-मृत्यु

प्रियंका दुबे

अंतिम दो

अविनाश मिश्र

मेरा गला घोंट दो माँ

निखिल आनंद गिरि

पिता

नवीन रांगियाल

अँधेरे का सौंदर्य-2

घुँघरू परमार

दर्द

सारुल बागला

सोने से पहले

मंगलेश डबराल

उदासी

प्रदीप्त प्रीत

मेघदूत विषाद

सुधांशु फ़िरदौस

लड़के सिर्फ़ जंगली

निखिल आनंद गिरि

शोक

अम्बर पांडेय

बुरे समय में नींद

रामाज्ञा शशिधर

प्रेम और उदासी

सारुल बागला

उम्र

सारुल बागला

अंत में

सत्यम तिवारी

अकेले में शर्म आती है

रामकुमार तिवारी

व्यवस्थाएँ

अविनाश मिश्र

असहनीय

वियोगिनी ठाकुर

बकवास

ज़ुबैर सैफ़ी

वसंत

राकेश रंजन

सुख है

अविनाश मिश्र

घर जाने में

पंकज प्रखर

मन न मिला तो कैसा नाता

कृष्ण मुरारी पहारिया

अवसाद का रंग

ऋतु कुमार ऋतु

ये अषाढ़ के पहले बादल

कृष्ण मुरारी पहारिया

कौन बताएगा

प्रमोद वर्मा

दिल दुखने की बातें

हरजीत अर्नेस्ट

हुनर

सारुल बागला

कठ-करेज समय

रूपम मिश्र

आवाज़ तेरी है

राजेंद्र यादव

साज़िश

नवीन रांगियाल

जश्न-ए-रेख़्ता (2023) उर्दू भाषा का सबसे बड़ा उत्सव।

पास यहाँ से प्राप्त कीजिए