घर पर कविताएँ

महज़ चहारदीवारी को ही

घर नहीं कहते हैं। दरअस्ल, घर एक ‘इमोशन’ (भाव) है। यहाँ प्रस्तुत है—इस जज़्बे से जुड़ी हिंदी कविताओं का सबसे बड़ा चयन।

घर की याद

भवानीप्रसाद मिश्र

घर रहेंगे

कुँवर नारायण

हंडा

नीलेश रघुवंशी

देना

नवीन सागर

घर

ममता बारहठ

जो मेरे घर कभी नहीं आएँगे

विनोद कुमार शुक्ल

पिता

नवीन रांगियाल

मनवांछित

जितेंद्र कुमार

जड़ें

राजेंद्र धोड़पकर

बेघर

सुधांशु फ़िरदौस

फ़ैमिली अलबम

विजया सिंह

संदिग्ध

नवीन सागर

घर में अकेली औरत के लिए

चंद्रकांत देवताले

गृहस्थन होती लड़की

गोविंद माथुर

घर का रास्ता

मंगलेश डबराल

कोरोना में किचेन

श्रीप्रकाश शुक्ल

आख़िरी बार

राही डूमरचीर

घर जाने में

पंकज प्रखर

लौटना

अजंता देव

पाँवों के निशान

कृष्ण कल्पित

अधूरा मकान

हरीशचंद्र पांडे

जा रहे हम

संजय कुंदन

घर

शुभम् आमेटा

अपने घर की तलाश में

निर्मला पुतुल

किराए का घर

संदीप तिवारी

यहीं कहीं था घर

सुधा अरोड़ा

घर

बद्री नारायण

यात्रा

अरुण कमल

दिनों बाद

नवीन सागर

किस आँख में है मेरा आलय

जोशना बैनर्जी आडवानी

साहस का प्रभाव है वह

ऋतु कुमार ऋतु

एक शहर था

जितेंद्र कुमार

सूना घर

प्रभात

ऐसे घर में

भगवत रावत

ढहे घर से

रुस्तम

घरों के दरवाज़े

विजया सिंह

विकल्प

विष्णु खरे

स्थानहीन

सुरजीत पातर

जश्न-ए-रेख़्ता (2022) उर्दू भाषा का सबसे बड़ा उत्सव।

फ़्री पास यहाँ से प्राप्त कीजिए