वर्षा पर कविताएँ

ऋतुओं का वर्णन और उनके

अवलंब से प्रसंग-निरूपण काव्य का एक प्रमुख तत्त्व रहा है। इनमें वर्षा अथवा पावस ऋतु की अपनी अद्वितीय उपस्थिति रही है, जब पूरी पृथ्वी सजल हो उठती है। इनका उपयोग बिंबों के रूप में विभिन्न युगीन संदर्भों के वर्णन के लिए भी किया गया है। प्रस्तुत चयन में वर्षा विषयक विशिष्ट कविताओं का संकलन किया गया है।

चौराहा

राजेंद्र धोड़पकर

पेड़ों का अंतर्मन

हेमंत देवलेकर

बाहर बारिश

अविनाश मिश्र

होना

सुघोष मिश्र

भादों की संध्या का जब

कृष्ण मुरारी पहारिया

तुम्हारा नाम

राजेंद्र धोड़पकर

नवसंदेश-रासक

अविनाश मिश्र

सावन में यह नदी

कृष्ण मुरारी पहारिया

साहब लोग रेनकोट ढूँढ़ रहे हैं

जितेंद्र श्रीवास्तव

अब पानी बरसेगा तो

सौम्य मालवीय

आज रात बारिश

सविता भार्गव

ये अषाढ़ के पहले बादल

कृष्ण मुरारी पहारिया

एक धुँधला दिन

सौरभ अनंत

दो बारिशों के बीच

राजेंद्र धोड़पकर

रेगिस्तान में बारिश

सुमेर सिंह राठौड़

ऐ बंधु!

सारुल बागला

अनुपस्थिति

गार्गी मिश्र

पहली बारिश

सुधांशु फ़िरदौस

सर्दियों की बारिश

मोनिका कुमार

बच्चे

सुघोष मिश्र

गद्य

सौरभ अनंत

जब वर्षा शुरू होती है

केदारनाथ सिंह

नैतिकता की खाल

सुमेर सिंह राठौड़

बारिश

निलय उपाध्याय

एक माहिया

अजंता देव

छाता

प्रेम रंजन अनिमेष

शरद-समाचार

मनप्रसाद सुब्बा

रेन इज़ फ़ॉलिंग

नाज़िश अंसारी

बारिश

विनोद भारद्वाज

बारिश

सौरभ अनंत

सावन में

दिनेश कुमार शुक्ल

फ़ासला

देवी प्रसाद मिश्र

बारिश

केदारनाथ सिंह

बरसात

कृष्ण कल्पित

वर्षा के बाद

हरिनारायण व्यास

बारिश

प्रयाग शुक्ल

बारिश

आलोकधन्वा

मौसम

साैमित्र मोहन

बारिश

महेश वर्मा

वृष्टि

सुलोचना

एक आर्द्र ऋतु में

अमिताभ चौधरी

वर्षा

जितेंद्र कुमार

संदर्भहीन बारिश

विजय देव नारायण साही

चित्र-3

दिनेश कुमार शुक्ल

क्षण यह

सविता भार्गव
बोलिए