जंगल पर कविताएँ

जंगल एक आदिम उपस्थिति,

एक पारितंत्र और जीवन के स्रोत के साथ ही एक प्रवृत्ति का प्रतिनिधि है। इस चयन में जंगल विषयक कविताओं का संग्रह किया गया है।

प्रेमपत्र

सुधांशु फ़िरदौस

पहाड़ पर लालटेन

मंगलेश डबराल

परवाह

जसिंता केरकेट्टा

पेड़ों का अंतर्मन

हेमंत देवलेकर

हँसी-ख़ुशी

शैलेंद्र साहू

पृष्ठ के पक्ष में

अमिताभ चौधरी

युवा जंगल

अशोक वाजपेयी

बढ़ई का बेटा

कृष्ण कल्पित

उस दिन का जंगल

लीलाधर जगूड़ी

अभयारण्य

अजंता देव

जंगल की कविता

कैलाश वाजपेयी

सतपुड़ा के जंगल

भवानीप्रसाद मिश्र

प्रदक्षिणा है यह

शिरीष ढोबले

संकेत

संजय चतुर्वेदी

दिन कोई जंगल है

पारुल पुखराज

जंगल

अनुभव

बस्तर बैलाडीला

शैलेंद्र साहू

चंद्रोदय

श्रीनरेश मेहता

टुकड़े में जंगल

प्रकृति करगेती

प्रार्थनाएँ जंगल की

अरविंद चतुर्वेद

जंगल

लवली गोस्वामी

कुल्‍हाड़ी

नवीन रांगियाल

अलावा

मिथलेश शरण चौबे

साहेब! कैसे करोगे ख़ारिज?

जसिंता केरकेट्टा

चीते को ज़ुकाम होने से

चंद्रकांत देवताले

सशंकित

श्रीनरेश मेहता

जंगल और पेड़

नीलेश रघुवंशी

शेर का अफ़साना

नवीन सागर

आज हैं केसर रंग रँगे वन

गिरिजाकुमार माथुर

जंगल

वसीम अकरम

जलते हुए जंगल के पास

विजय देव नारायण साही

जंगल

सरबजीत गरचा

सिर्फ़ जंगल था

जयप्रकाश मानस

जंगल

स्वाति मेलकानी