माया पर कविताएँ

‘ब्रह्म सत्यं, जगत मिथ्या’—भारतीय

दर्शन में संसार को मिथ्या या माया के रूप में देखा गया है। भक्ति में इसी भावना का प्रसार ‘कबीर माया पापणीं, हरि सूँ करे हराम’ के रूप में हुआ है। माया को अविद्या कहा गया है जो ब्रह्म और जीव को एकमेव नहीं होने देती। माया का सामान्य अर्थ धन-दौलत, भ्रम या इंद्रजाल है। इस चयन में माया और भ्रम के विभिन्न पाठ और प्रसंग देती अभिव्यक्तियों का संकलन किया गया है।

देना

नवीन सागर

भ्रम

श्रीनरेश मेहता

जग रूठे तो रूठे

कृष्ण मुरारी पहारिया

भ्रम

आरती अबोध

मुलाक़ात

नवीन रांगियाल

भ्रम

श्रुति गौतम

गिरगिट

उद्भ्रांत

अभी सृजन की प्यास शेष है

कृष्ण मुरारी पहारिया

दिल्ली 2020

गिरिराज किराडू

धुँधलापन

रमाशंकर सिंह

बुद्ध मुस्कराए हैं

हरीशचंद्र पांडे

भैंसें

सौरभ कुमार

नई संस्कृति

दूधनाथ सिंह

शीर्षासन

हरि मृदुल

रहस्य-15

सोमेश शुक्ल

संख्या-भ्रम

प्रयागनारायण त्रिपाठी

वहम

संतोष कुमार चतुर्वेदी

पर्दा

जतिन एंड विंग्स

सह-अनुभूति

विश्वंभरनाथ उपाध्याय

भ्रम से बाहर

प्रदीप जिलवाने

भरम की भित्ति

गोबिंद प्रसाद

मकड़जाल

पारुल पुखराज

विभूति

कन्हैयालाल सेठिया

तारक मंत्र

ज्ञानेंद्रपति

दूसरा आदमी

नरेश चंद्रकर

उनकी बातें

हरि मृदुल

बहुराष्ट्रीय

पंकज चतुर्वेदी

भ्रम

रामजी तिवारी
बोलिए