दिल्ली पर कविताएँ

भारत की राजधानी के रूप

में दिल्ली कविता-प्रसंगों में अपनी उपस्थिति जताती रही है। ‘हुनूज़ दिल्ली दूर अस्त’ के मेटाफ़र के साथ ही देश, सत्ता, राजनीति, महानगरीय संस्कृति, प्रवास संकट जैसे विभिन्न संदर्भों में दिल्ली को एक रूपक और प्रतीक के रूप में बरता गया है। प्रस्तुत चयन दिल्ली के बहाने कही गई कविताओं से किया गया है।

अकाल

केशव तिवारी

कवियों की कहानी

कृष्ण कल्पित

दिल्ली के कवि

कृष्ण कल्पित

सीलमपुर की लड़कियाँ

आर. चेतनक्रांति

महानगर में प्यार की जगह

घनश्याम कुमार देवांश

पहाड़गंज

नवीन रांगियाल

मेरी दिल्ली

इब्बार रब्बी

दिल्ली की बसों में

इब्बार रब्बी

दिल्ली : दो

मंगलेश डबराल

ब्लू लाइन

देवी प्रसाद मिश्र

दिल्ली

मंगलेश डबराल

राजधानी

कैलाश वाजपेयी

दिल्ली की तरफ़

कुँवर नारायण

सीलमपुर के लड़के

आर. चेतनक्रांति

कनॉट प्लेस

विश्वनाथ प्रसाद तिवारी

दिल्ली 2018

गिरिराज किराडू

दिल्ली के कवि

बहादुर पटेल

दिल्ली

रामधारी सिंह दिनकर

दिल्ली 2020

गिरिराज किराडू

खोई दिल्ली

सौरभ अनंत

दिल्ली और दलदल

ओम् प्रकाश आदित्य

दिल्ली 2017

गिरिराज किराडू

लापता गधा

ओम् प्रकाश आदित्य

दिल्ली

विनोद दास

दिल्ली के जाने का समय

शलभ श्रीराम सिंह

दिल्ली

सवाई सिंह शेखावत

दिल्ली

पंकज चौधरी

तीन आदमी

कमल जीत चौधरी

दिल्ली

अनिल जनविजय

दिल्ली

प्रयाग शुक्ल

चाँदनी चौक

निर्मला गर्ग

चेंज

श्याम विमल