बेरोज़गारी पर कविताएँ

बेकारी या बेरोज़गारी

आधुनिक राज-समाज की एक प्रमुख समस्या है। अपने निजी अनुभवों के आधार पर इस संकट की अभिव्यक्ति विभिन्न कवियों द्वारा की गई है। प्रस्तुत चयन में ऐसी ही कविताओं का संकलन किया गया है।

जिल्दसाज़

विनय सौरभ

चाकरी में स्वप्न पाले कौन

कृष्ण मुरारी पहारिया

नौकरी

प्रयाग शुक्ल

बेकारी

बी. गोपाल रेड्डी

हो-हो करता हुआ

प्रदीप सैनी

हमने यह देखा

रघुवीर सहाय

जीवन का दृश्य

अमर दलपुरा

सरूली

महेश चंद्र पुनेठा

कि

कुमार अम्बुज

कुछ बेरोज़गार लड़के

वंदना मिश्रा

फ़िलहाल मेरे पास

विमलेश त्रिपाठी

बेरोज़गारी

कुमार अनुपम

नौकरी

मिथिलेश श्रीवास्तव

मैं प्रेम में

पंकज विश्वजीत

कटे हाथ

अशोक चक्रधर

बेकारी के दिनों में

प्रदीप जिलवाने

अनवांटेड

निशांत

बेरोज़गारी में

प्रांजल धर

जश्न-ए-रेख़्ता (2023) उर्दू भाषा का सबसे बड़ा उत्सव।

पास यहाँ से प्राप्त कीजिए