दिल पर कविताएँ

कवियों-शाइरों के घर

दिल या हृदय एक प्रिय शब्द की तरह विचरता है, जहाँ दिल की बातें और दिल के बारे में बातें उनकी कविताई में दर्ज होती रहती हैं। यह चयन दिल पर ज़ोर रखती ऐसी ही कविताओं में से किया गया है।

जाने से पहले

गीत चतुर्वेदी

पंचतत्व

गीत चतुर्वेदी

पुरुषत्व एक उम्मीद

पंकज चतुर्वेदी

राई का दाना

मोनिका कुमार

मेरा दिल

बबली गुज्जर

‘हृदय पगडंडियाँ’

बबली गुज्जर

उठो रौशनी करो

गार्गी मिश्र

दिल और गिलास

सत्यम तिवारी

शिरीष-सा मन

निधि अग्रवाल

इतना लंबा आकाश

राजेंद्र यादव

मुखौटा

अपूर्वा श्रीवास्तव

बाईपास सर्जरी

चंदन सिंह

क्या जानूँ दिल को खींचे है

विष्णुचंद्र शर्मा

अस्तित्व पर प्रश्नचिन्ह

अपूर्वा श्रीवास्तव

दिल के लिए नहीं

ऋतु कुमार ऋतु

गौला

कुमार मंगलम

मैं

सुमित त्रिपाठी

तारीख़-तवारीख़

कौशल किशोर

मनुष्य-हृदय

उमाशंकर जोशी

कोजागर

नामवर सिंह

आस्था

निधि अग्रवाल

कहानी बन जाते हैं

प्रज्ञा शर्मा

सबसे आसान

अहर्निश सागर

मेरा दिल

मोहन लाल सपोलिया

मकान

राहुल देहलवी

पिता-चार

यतीश कुमार

जड़ता का दैत्य

प्रज्ञा शर्मा

हृदय प्रत्यारोपण

अम्बर पांडेय

सामिप्य

अपूर्वा श्रीवास्तव

जी

स्वानंद किरकिरे

ये जो

सत्यम् सम्राट आचार्य

मधुस्रोत-20

आचार्य रामचंद्र शुक्ल

फ़ासला

प्रज्ञा शर्मा

मैं बीज हूँ

सरिता सैल

जश्न-ए-रेख़्ता (2023) उर्दू भाषा का सबसे बड़ा उत्सव।

पास यहाँ से प्राप्त कीजिए