पत्नी पर कविताएँ

प्रस्तुत है कवि-पत्नी,

पत्नियों को समर्पित और कविता में पत्नियाँ विषयक कविताओं का एक अनूठा चयन।

सुनो चारुशीला

नरेश सक्सेना

तुम्हारे लिए

अष्टभुजा शुक्‍ल

पति-पत्नी

निखिल आनंद गिरि

कोरोना में किचेन

श्रीप्रकाश शुक्ल

गृहस्थन होती लड़की

गोविंद माथुर

उसकी थकान

भगवत रावत

कवि की पत्नी

इब्बार रब्बी

मुझे लगता है।

जयंत पाठक

हे मेरी तुम

केदारनाथ अग्रवाल

उनकी पत्नियाँ

अविनाश मिश्र

दिनचर्या

रवि भूषण पाठक

महुवाई गंध

अनुज लुगुन

मायके गई बीवी के लिए

जावेद आलम ख़ान

जमुन-जल तुम

केदारनाथ अग्रवाल

रूठना

मिथिलेश कुमार राय

क्या जानूँ दिल को खींचे है

विष्णुचंद्र शर्मा

घर में शोर

विष्णु नागर

रानी वह मेरी

चक्रधर राउत

एयर हॉस्टेस

लाइश्रम समरेन्द्र सिंह

भाग्य

कुलदीप सिंह जिंद्राहिया

सहधर्मिणी

तिरुवल्लुवर

पत्नी के लिए

अरुण देव

अभिनय

प्रेमशंकर शुक्ल

हो

विष्णु नागर

गृहदेवी

बलराम शुक्ल

संबंध

कुमार मुकुल

पत्नी

परमानंद श्रीवास्तव

पत्नी के लिए

विनोद पदरज

नई नई

विनोद पदरज

आभा के लिए

बोधिसत्व

माधो बाबू

मानबहादुर सिंह

पीहर से लौटकर पत्नी

सवाई सिंह शेखावत

जश्न-ए-रेख़्ता (2023) उर्दू भाषा का सबसे बड़ा उत्सव।

पास यहाँ से प्राप्त कीजिए