डर पर कविताएँ

डर या भय आदिम मानवीय

मनोवृत्ति है जो आशंका या अनिष्ट की संभावना से उत्पन्न होने वाला भाव है। सत्ता के लिए डर एक कारोबार है, तो आम अस्तित्व के लिए यह उत्तरजीविता के लिए एक प्रतिक्रिया भी हो सकती है। प्रस्तुत चयन में डर के विभिन्न भावों और प्रसंगों को प्रकट करती कविताओं का संकलन किया गया है।

अँधेरे में

गजानन माधव मुक्तिबोध

नवस्तुति

अविनाश मिश्र

2020

संजय चतुर्वेदी

उपला

नवीन रांगियाल

निष्कर्ष

शुभांकर

दर्द

सारुल बागला

मर्सिया

अंचित

हाशिए के लोग

जावेद आलम ख़ान

मौत

अतुल

मोना लिसा 2020

विनोद भारद्वाज

रात, डर और सुबह

नेहा नरूका

व्यवस्थाएँ

अविनाश मिश्र

डरता रह गया

सोमदत्त

डर

नरेश सक्सेना

कवि साहिब

सुरजीत पातर

कल सपने में पुलिस आई थी

निखिल आनंद गिरि

पैंतीस

दर्पण साह

आवाज़ तेरी है

राजेंद्र यादव

बिल्लियाँ

नवीन सागर

राष्ट्रपति जी!

पंकज चतुर्वेदी

आनुवादिक त्रुटि

अमित तिवारी

ऐसे घर में

भगवत रावत

ख़तरे

वेणु गोपाल

भय

अनीता वर्मा

साधो, कोरोना जनहंता

रामकुमार कृषक

रात के बाद

वसु गंधर्व

मेरे शहर के हैं सवाल कुछ

हिमांशु बाजपेयी

भय-प्रवाह

आर. चेतनक्रांति

हँसना

निखिल आनंद गिरि

चुप्पी

गिरधर राठी

कुत्ता

उदयन वाजपेयी

अस्वीकार

राजेश कमल

उनका डर

गोरख पांडेय

डरे हुए आदमी का शब्दकोश

निखिल आनंद गिरि

पिशाच

नेहा नरूका

डरो

विष्णु खरे

डर

कुमार अम्बुज

जश्न-ए-रेख़्ता (2022) उर्दू भाषा का सबसे बड़ा उत्सव।

फ़्री पास यहाँ से प्राप्त कीजिए