पिता पर कविताएँ

पारिवारिक इकाई में पिता

एक विशिष्ट भूमिका का निर्वाह करता है और यही कारण है कि जीवन-प्रसंगों की अभिव्यक्ति में वह एक मज़बूत टेक की तरह अपनी उपस्थिति जताता रहता है। यहाँ प्रस्तुत है—पिता विषयक कविताओं का एक विशेष संकलन।

घर की याद

भवानीप्रसाद मिश्र

सरोज-स्मृति

सूर्यकांत त्रिपाठी निराला

लड़कियों के बाप

विष्णु खरे

पिता

नवीन रांगियाल

पितृ-स्मृति

आदर्श भूषण

पिता की तस्वीर

मंगलेश डबराल

बचपन-रात

अदनान कफ़ील दरवेश

मेरे बच्चे

शरद बिलाैरे

पिता ने कहा था

प्रमोद बेड़िया

एक पारिवारिक प्रश्न

केदारनाथ सिंह

वह तुम ही हो पिता

रश्मि भारद्वाज

पिता का चश्मा

मंगलेश डबराल

समालोचक

रवीन्द्रनाथ टैगोर

पिता के फूल

उमाशंकर जोशी

खो जाना

रवीन्द्रनाथ टैगोर

वर्षगाँठ

कैलाश वाजपेयी

पिता

उदय प्रकाश

पिता और देश

विजया सिंह

रोकना

प्रेम रंजन अनिमेष

पापा जब मुझे मिले

सुमित त्रिपाठी

अब भी

अवधेश कुमार

पिता

शशिभूषण

डूब मरो

कृष्ण कल्पित

शक्ति दो

रघुवीर सहाय

मज़दूर

पायल भारद्वाज

पिता और बरगद

पंकज प्रखर

पिता

गौरव भारती

पिता और नदी

मनीष कुमार यादव

ओ पिता

सौम्य मालवीय

बाबू को ख़त

अखिलेश सिंह

वह तोड़ना जानती है

लक्ष्मण गुप्त

बच्चे का गीत

बद्री नारायण

पलटनिया पिता

अनिल कार्की

सबक़

नवीन रांगियाल

पिता

अर्पिता राठौर

जश्न-ए-रेख़्ता (2022) उर्दू भाषा का सबसे बड़ा उत्सव।

फ़्री पास यहाँ से प्राप्त कीजिए