वृद्धावस्था पर कविताएँ

वृद्धावस्था जीवन का

उत्तरार्द्ध है। नीति-वचनों में इस अवस्था में माया से मुक्त होकर परलोक की यात्रा की तैयारी करने का संदेश दिया गया है तो आधुनिक समाजशास्त्रीय विमर्शों में वृद्धों के एकाकीपन और उनकी पारिवारिक-सामजिक उपेक्षा जैसे विषयों पर मनन किया गया है। आत्मपरक मनन में वृद्धावस्था जीवन के जय-पराजय की विवेचना की निमित्त रही है। प्रस्तुत चयन में शामिल कविताएँ इन सभी कोणों से इस विषय को अभिव्यक्त करती हैं।

सेवानिवृत्ति

अविनाश मिश्र

ठीक-ठीक कितने वर्ष का था

रामकुमार तिवारी

साइकिल

बद्री नारायण

बूढ़े

अजंता देव

विरुद्ध प्रस्थान

अविनाश मिश्र

पाठांतर

विष्णु खरे

आशीर्वाद

ज्ञानेंद्रपति

पिता

अर्पिता राठौर

सब्ज़ी-बाज़ार में

निरंजन श्रोत्रिय

ईर्ष्या

चंदन सिंह

बुढ़ापे में पिता

नीलेश रघुवंशी

बूढ़ा

परमानंद श्रीवास्तव

बुढ़ापा

बालमणि अम्मा

ठौर

अशोक शाह

साठ के पार

अमर दलपुरा

वह बूढ़ा मुसलमान

अशोक वाजपेयी

वयस्कता की टीस

राजीव सभरवाल

पार्क में बूढ़े

निरंजन श्रोत्रिय

बुढ़ापा

अरुण कमल

बूढ़ा

विनय विश्वास

इकलौता जवाब

वंदना शुक्ल

बुढ़ापा

अजीत रायज़ादा

बूढ़े

उदयन वाजपेयी

सुराग़

मोना गुलाटी

पत्रोत्कंठित जीवन का विष बुझा हुआ है

सूर्यकांत त्रिपाठी निराला

जश्न-ए-रेख़्ता (2022) उर्दू भाषा का सबसे बड़ा उत्सव।

फ़्री पास यहाँ से प्राप्त कीजिए