सांप्रदायिकता पर कविताएँ

सांप्रदायिकता संप्रदाय

विशेष से संबद्धता का प्रबल भाव है जो हितों के संघर्ष, कट्टरता और दूसरे संप्रदाय का अहित करने के रूप में प्रकट होता है। आधुनिक भारत में इस प्रवृत्ति का उभार एक प्रमुख चुनौती और ख़तरे के रूप में हुआ है और इससे संवाद में कविताओं ने बढ़-चढ़कर भूमिका निभाई है। इस चयन में सांप्रदायिकता को विषय बनाती और उसके संकट को रेखांकित करती कविताएँ संकलित की गई हैं।

मुसलमान

देवी प्रसाद मिश्र

सफ़ेद रात

आलोकधन्वा

मारे जाएँगे

राजेश जोशी

सन् 1992

अदनान कफ़ील दरवेश

तो फिर वे लोग कौन हैं?

गुलज़ार हुसैन

लेख

अनीता वर्मा

अस्मिता

ज़ुबैर सैफ़ी

पोस्टमार्टम की रिपोर्ट

सर्वेश्वरदयाल सक्सेना

हाशिए के लोग

जावेद आलम ख़ान

कोरोना

अमिताभ

ज़िबहख़ाने

अखिलेश श्रीवास्तव

हिंदू सांसद

असद ज़ैदी

गंगा मस्जिद

फ़रीद ख़ाँ

बूथ पर लड़ना

व्योमेश शुक्ल

हलफ़नामा

असद ज़ैदी

डॉल्टनगंज के मुसलमान

विशाल श्रीवास्तव

अंबेडकरवादी हाइकु

मुसाफ़िर बैठा

दंगा

चंदन सिंह

नाम

अमिताभ

फ़हमीदा आपा के नाम

सत्येंद्र कुमार

इस्लामाबाद

असद ज़ैदी

नूर मियाँ

रमाशंकर यादव विद्रोही

मैं लाशें फूँकता हूँ

मनीष कुमार यादव

उन्होंने कहा अंत

ऋतु कुमार ऋतु

बर्बरता के उत्स

ऋतु कुमार ऋतु

शमीम

पंकज चतुर्वेदी

बजरडीहा

अरमान आनंद

कुछ सवाल

पंकज चतुर्वेदी

एक दिन जब सारे मुसलमान

अदनान कफ़ील दरवेश

नफ़रत के ज़हर से

अजीत रायज़ादा

छह दिसंबर

नरेश सक्सेना

कर्बला

राजेश जोशी

नफ़रत करो

राजेश जोशी

तेईस

दर्पण साह

कारन सों गोरन की घिन को

बदरीनारायण चौधरी 'प्रेमघन'

उनमें केवल तुम ही थे

खेमकरण ‘सोमन’

ख़ुदा, रामचंदर में यारी है ऐसी

रमाशंकर यादव विद्रोही

जश्न-ए-रेख़्ता (2023) उर्दू भाषा का सबसे बड़ा उत्सव।

पास यहाँ से प्राप्त कीजिए