धर्मनिरपेक्षता पर कविताएँ

भारतीय संविधान में विशेष

संशोधन के साथ धर्मनिपेक्षता शब्द को शामिल किए जाने और हाल में सेकुलर होने जैसे प्रगतिशील मूल्य को ‘सिकुलर’ कह प्रताड़ित किए जाने के संदर्भ में कविता में इस शब्द की उपयोगिता सुदृढ़ होती जा रही है। यहाँ इस शब्द के आशय और आवश्यकता पर संवाद जगाती कविताओं का संकलन किया गया है।

हलफ़नामा

असद ज़ैदी

डॉल्टनगंज के मुसलमान

विशाल श्रीवास्तव

गले मिलते रंग

विनोद दास

फ़हमीदा आपा के नाम

सत्येंद्र कुमार

सन् 1992

अदनान कफ़ील दरवेश

गंगा मस्जिद

फ़रीद ख़ाँ

मुसलमान

देवी प्रसाद मिश्र

नूर मियाँ

रमाशंकर यादव विद्रोही

निज़ामुद्दीन

देवी प्रसाद मिश्र

कर्बला

राजेश जोशी

तक़दीर का बँटवारा

रामधारी सिंह दिनकर

विलय

राजेश शर्मा

अहमदाबाद

शिव कुमार गांधी

शब्द मुसलमान

उमा शंकर चौधरी

एक दिन जब सारे मुसलमान

अदनान कफ़ील दरवेश

लव जेहाद

फ़िरोज़ ख़ान

ख़ुदा, रामचंदर में यारी है ऐसी

रमाशंकर यादव विद्रोही

अयोध्या

कुबेर दत्त