चीज़ें पर गीत

कविता के भाव में कहें

तो चीज़ें वे हैं जिनसे हमारी दुनिया बनती है और बर्बाद भी होती है। यहाँ प्रस्तुत है चीज़ों की उपस्थिति-अनुपस्थिति को दर्ज करती कविताओं का यह व्यापक चयन।

साथी हाथ बढ़ाना

साहिर लुधियानवी

दृष्टि

राघवेंद्र शुक्ल

मेरा घर आँगन

विनम्र सेन सिंह

गीत लिखें कि...

राघवेंद्र शुक्ल

हमको भी आता है

देवेंद्र कुमार बंगाली

तृप्ति

शंभुनाथ सिंह

सागर के सीप

भारत भूषण

भूल-भुलैया

गोपालशरण सिंह

जश्न-ए-रेख़्ता (2023) उर्दू भाषा का सबसे बड़ा उत्सव।

पास यहाँ से प्राप्त कीजिए