हास्य पर कविताएँ

हास्य नौ रसों में से

एक रस है। व्यंग्य, प्रहसन, चुटकुले आदि इसके अंतर्गत आते हैं। इस चयन में हास्य-रस को केंद्र में रखकर संभव हुई कविताओं का संकलन किया गया है।

प्रेम-संगीत

कांतानाथ पांडेय 'चोंच'

चिड़िया

शरद जोशी

मैं और तुम

कांतानाथ पांडेय 'चोंच'

डेमोक्रेसी

अशोक चक्रधर

अच्छा है पर कभी-कभी

हुल्लड़ मुरादाबादी

गुरु और चेला

सोहनलाल द्विवेदी

मीडिया : एक

आश करण अटल

चुनाव की चोट

काका हाथरसी

तथाकथित पत्रकार

काका हाथरसी

कार सरकार

शैल चतुर्वेदी

विरह का गीत

कांतानाथ पांडेय 'चोंच'

भ्रष्टाचार पेट पर

ओम् प्रकाश आदित्य

खटारा

अल्हड़ बीकानेरी

वीर रस का कवि सम्मेलन

महेंद्र अजनबी

चार लैन सुणा रियो ऊँ

सुरेंद्र शर्मा

खल-वंदना

काका हाथरसी

काला आदमी

वेदप्रकाश वेद

ताजमहल

अरुण जैमिनी

पोल-खोलक यंत्र

अशोक चक्रधर

गुड़ और चीनी

काका हाथरसी

सेवा

घनश्याम अग्रवाल

दिल्ली और दलदल

ओम् प्रकाश आदित्य

भारत बंद

माणिक वर्मा

असली डाकू

काका हाथरसी

मीडिया : दो

आश करण अटल

नानी नातिनों की

अल्हड़ बीकानेरी

पापा-आपा

अल्हड़ बीकानेरी

अडिग अतिथि

ओम् प्रकाश आदित्य

मनहूस श्रोता

ओम् प्रकाश आदित्य

छप्पन छुरी

अल्हड़ बीकानेरी

हँसी-खेल नहीं है

वेदप्रकाश वेद

चोटी के कवि

काका हाथरसी

महँगाई और महबूबा

जैमिनी हरियाणवी

अँगूठा छाप नेता

काका हाथरसी

आत्म-विज्ञापन

कांतानाथ पांडेय 'चोंच'

इश्क़ हक़ीक़ी

काका हाथरसी

जून में जनवरी

ओम् प्रकाश आदित्य

पोते-पोती

अल्हड़ बीकानेरी

भूचाल

अल्हड़ बीकानेरी

घाटे पर घाटा

काका हाथरसी

चंद्रमुखी की मुसीबत

ओम् प्रकाश आदित्य

गोरी म्हारे गाम की

जैमिनी हरियाणवी

टिट फ़ॉर टैट

काका हाथरसी

ग़लती का छक्का

काका हाथरसी

कवि जी की पत्नी

कांतानाथ पांडेय 'चोंच'

जश्न-ए-रेख़्ता (2023) उर्दू भाषा का सबसे बड़ा उत्सव।

पास यहाँ से प्राप्त कीजिए