Naveen Sagar's Photo'

नवीन सागर

1948 - 2000 | सागर, मध्य प्रदेश

हिंदी के अत्यंत उल्लेखनीय कवि-कथाकार।

हिंदी के अत्यंत उल्लेखनीय कवि-कथाकार।

नवीन सागर के उद्धरण

41
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

सूरज नहीं चाँद तारे संगीत चित्र भी नहीं कविता से भी सुंदर लगता है मनुष्य।

अपने भूले रहने की याद में जीवन अच्छा लगता है।

हत्या का विचार होती हुई हत्या देखने की लालसा में छिपा है।

ख़ामोशी का जाना भी एक आवाज़ है।

हम अपने बारे में इतना कम और इतना अधिक जानते हैं कि प्रेम ही बचता है प्रार्थना की राख में।

सुंदरता! कितना बड़ा कारण है—हम बचेंगे अगर!

अकेला एक कायर सबको मार सकता है।

जो तुम्हें कहीं से बुला रहे हैं, उन्हें नहीं पता वे कहाँ हैं।

जब कोई अर्थ नहीं रह जाता व्यर्थ का दुनिया में बहुत कुछ होता रहता है।

अनंत अपनी मृत्यु में रहते हैं इतने धुँधले कि हमारी झलक में बार-बार जन्म लेते हैं संसार!

पेड़ चाहता है बहुत सारे पेड़ों के बीच का पेड़ होना।

  • संबंधित विषय : पेड़

अकेली एक लहर पूरे समुद्र की जगह बचती है, जब हम भूल जाते हैं जीना।

बातों में होते हैं हम जितना उतने से कई गुना कहीं और होते हैं।

जन्म चाहिए, हर चीज़ को एक और जन्म चाहिए।

वास्तविकता वास्तविक नहीं है!

  • संबंधित विषय : समय

तुम चीज़ों से अलग होते हो जब उन्हें देखते हो!

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

जश्न-ए-रेख़्ता (2022) उर्दू भाषा का सबसे बड़ा उत्सव।

फ़्री पास यहाँ से प्राप्त कीजिए