शर्म पर कविताएँ

शर्म का एक अर्थ लज्जा,

हया, संकोच आदि है; जबकि एक अन्य अर्थ में यह दोषभाव या ग्लानि का आशय देता है। इस चयन में शर्म विषय से संबंधित कविताओं को शामिल किया गया है।

अकेले में शर्म आती है

रामकुमार तिवारी

सेज पर उदासी

मनोज कुमार झा

सकारात्मक

अंकिता आनंद

बेशर्म दौर में

नित्यानंद गायेन

उस आदमी ने कहा

विशाल श्रीवास्तव

आज़ादी

उद्भ्रांत

शर्म के पक्ष में

अशोक कुमार पांडेय

शर्म कर लो

पीयूष मिश्रा

नहीं जिनके नयनों में लाज

कृष्ण मुरारी पहारिया

शर्म थी

कैलाश मनहर

पुरानी शर्म

अनिल कुमार सिंह

प्रेम और श्रद्धा

गोविंद माथुर

लज्जा

नरेश अग्रवाल

इतना बेशर्म

हरि मृदुल

जश्न-ए-रेख़्ता (2022) उर्दू भाषा का सबसे बड़ा उत्सव।

फ़्री पास यहाँ से प्राप्त कीजिए