चुंबन पर कविताएँ

चुंबन प्रेमाभिव्यक्ति

का एक ख़ास स्पर्श है और बेहद नैसर्गिक है कि हर युग हर भाषा के कवि इसके अहसास की अभिव्यक्ति को प्रवृत्त हुए हैं। इस चयन में चूमने के प्रसंगों के साथ प्रेम के इर्द-गिर्द डूबती-इतराती कविताएँ हैं।

चोरी

गीत चतुर्वेदी

गुनाह का दूसरा गीत

धर्मवीर भारती

बोझ

गीत चतुर्वेदी

तिल

पंकज चतुर्वेदी

स्त्री के पैरों पर

प्रियंका दुबे

जाना

अमित तिवारी

चुंबन

अमित तिवारी

चुम्बन काम न आएगा

कुशाग्र अद्वैत

पहला चुंबन

अशोक वाजपेयी

पलभर के लिए मणिका

प्रसन्न कुमार मिश्र

मेहनताना

सुधांशु फ़िरदौस

चुंबन

इब्बार रब्बी

चुंबन

वसु गंधर्व

घटना से परे

साैमित्र मोहन

असंबद्ध

गीत चतुर्वेदी

चूमना

रवि प्रकाश

चुंबन

धर्मवीर भारती

अभिसार

प्रतिभा शतपथी

छूना

रमाशंकर सिंह

पसलियाँ

प्रियंका दुबे

चूमना

धर्मेश

होंठों की जुंबिश

प्रदीप्त प्रीत

जैसे वह एक आँसू था

पंकज चतुर्वेदी

पहला प्यार

साैमित्र मोहन

मुंबई 2017

गिरिराज किराडू

चुंबन-सा अनगढ़

पल्लवी विनोद

चार कविताएँ

दुर्गाचरण परिड़ा

चुंबन

मंगलेश डबराल

तुम्हें चूमना

प्रदीप सैनी

जिस तरह वृहद आकाश

पूनम अरोड़ा

चुम्बन

सुघोष मिश्र

रात चूमती है

सविता सिंह

चार चुंबन

संजय शेफर्ड

चुंबन

मीनाक्षी जिजीविषा

भविष्य

मनोज कुमार पांडेय

वही एक

पारुल पुखराज

‘भरपाई’

बबली गुज्जर

चुंबन

आयुष झा

जश्न-ए-रेख़्ता (2023) उर्दू भाषा का सबसे बड़ा उत्सव।

पास यहाँ से प्राप्त कीजिए