शृंगार पर कविताएँ

सामान्यतः वस्त्राभूषण

आदि से रूप को सुशोभित करने की क्रिया या भाव को शृंगार कहा जाता है। शृंगार एक प्रधान रस भी है जिसकी गणना साहित्य के नौ रसों में से एक के रूप में की जाती है। शृंगार भक्ति का एक भाव भी है, जहाँ भक्त स्वयं को पत्नी और इष्टदेव को पति के रूप में देखता है। इस चयन में शृंगार विषयक कविताओं का संकलन किया गया है।

शृंगार

आलोकधन्वा

स्त्री के पैरों पर

प्रियंका दुबे

प्रेमिकाएँ

सुदीप्ति

रंगरसिया

सुशोभित

एक नीला दरिया बरस रहा

शमशेर बहादुर सिंह

शेड

नवीन रांगियाल

काजल

संजय शेफर्ड

आज रात शृंगार करूँगी

विद्यावती कोकिल

सोन-मछली

अज्ञेय

काजल

सुलोचना

बुख़ार

शिव कुमार गांधी

ये लहरें घेर लेती हैं

शमशेर बहादुर सिंह

एक ठोस बदन अष्टधातु का-सा

शमशेर बहादुर सिंह

जश्न-ए-रेख़्ता (2022) उर्दू भाषा का सबसे बड़ा उत्सव।

फ़्री पास यहाँ से प्राप्त कीजिए