मंदिर पर कविताएँ

मंदिर भारतीय सांस्कृतिक

जीवन का अभिन्न अंग रहे हैं। सांप्रदायिक सौहार्द के कविता-संवाद में मंदिर-मस्जिद का उपयोग समूहों और प्रवृत्तियों के रूपक की तरह भी किया गया है। इस चयन विशेष में उन कविताओं का संकलन किया गया है, जहाँ मंदिर प्रमुख विषय या संदर्भ की तरह आए हैं।

दोहराव

सौरभ अनंत

हरिसभा

अंचित

भुवनेश्वर 2019

गिरिराज किराडू

मंदिर

विपिन कुमार अग्रवाल

मंदि‍र के अहाते से

नरेश चंद्रकर