फ़ोन पर कविताएँ

फ़ोन आधुनिक जीवनशैली

का अभिन्न अंग बन चुका है और इसलिए आश्चर्यजनक नहीं कि उनसे जुड़े संदर्भ कविताओं के भी विषय बन रहे हैं। प्रस्तुत चयन ऐसी ही कुछ रचनाओं से किया गया है।

पुरुषत्व एक उम्मीद

पंकज चतुर्वेदी

मोबाइल

मंगलेश डबराल

यह नंबर मौजूद नहीं

मंगलेश डबराल

आवाज़ कट रही है

सिद्धेश्वर सिंह

सेल्फ़ी

प्रज्ञा सिंह

मोबाइल

गोविंद माथुर

फ़ोन

अवधेश कुमार

भारत संचार निगम लिमिटेड

अष्टभुजा शुक्‍ल