पुनर्जन्म पर कविताएँ

भारतीय धार्मिक-सांस्कृतिक

अवधारणा में पुनर्जन्म मृत्यु के बाद पुनः नए शरीर को धारण करते हुए जन्म लेना है। यह अवधारणा अनिवार्य रूप से भारतीय काव्य-रूपों में अभिव्यक्ति पाती रही है। प्रस्तुत चयन उन कविताओं का संकलन करता है, जिनमें इस अवधारणा को आधार लेकर विविध प्रसंगों की अभिव्यक्ति हुई है।

उनतीस नवंबर

नवीन सागर

पूर्वजन्म

राजेंद्र धोड़पकर

इस बार

नाज़िश अंसारी

पुनर्जन्म

वीरू सोनकर

सात जन्म

रमाशंकर सिंह

अगर मिली ज़िंदगी

रमाशंकर सिंह

यही जीवन

कुलदीप कुमार