गुरु पर कविताएँ

मध्यकालीन काव्य में

गुरु की महिमा की समृद्ध चर्चा मिलती है। प्रस्तुत संचयन में गुरु-संबंधी काव्य-रूपों और आधुनिक संदर्भ में शिक्षक-संबंधी कविताओं का संग्रह किया गया है।

एक आलसी टीचर के नोट्स

घनश्याम कुमार देवांश

बीनियाँ और धामन

सुमन मिश्र

ब्रह्मराक्षस

गजानन माधव मुक्तिबोध

गुरु और चेला

सोहनलाल द्विवेदी

काव्य-गुरु

कमल जीत चौधरी

दोनों तरफ़

बोधिसत्व

कटे अँगूठों की बंदनवारें

शिवमंगल सिंह सुमन

नए शिक्षक

परमेंद्र सिंह

सुशि‍ष्य

विनय विश्वास