महिमा पर पद

महिमा महानता की अवस्था

या भाव है। महिमा की गिनती आठ प्रकार की सिद्धियों में से एक के रूप में भी की गई है। इस चयन में शामिल काव्य-रूपों में ‘महिमा’ कुंजी-शब्द के रूप में उपस्थित है।

सूरो सोई साध कहावै

तुरसीदास निरंजनी

संतौ ऐसा राम हमारा

तुरसीदास निरंजनी
बोलिए