शत्रु पर कविताएँ

शत्रु ऐसे अमित्र को

कहा जाता है जिसके साथ वैमनस्य का संबंध हो और जो हमारा अहित चाहता हो। आधुनिक विमर्शों में उन अवधारणाओं और प्रवृत्तियों की पहचान भी शत्रु के रूप में की गई है जो प्रत्यक्षतः या परोक्षतः आम जनमानस के हितों के प्रतिकूल सक्रिय हों। प्रस्तुत चयन में शत्रु और शत्रुता विषय का उपयोग कर वृहत संदर्भ-प्रसंग में प्रवेश करती कविताओं का संकलन किया गया है।

सकुशल अपार

नवीन सागर

दुश्मन

केदारनाथ सिंह

नए युग में शत्रु

मंगलेश डबराल

मेरे दुश्मन

असद ज़ैदी

एक नालायक़ अकेला

विनय विश्वास

बजते हैं कान

नवीन सागर

युद्ध

श्रीविलास सिंह

शत्रु

सुधीर रंजन सिंह

शत्रुओं को

सच्चिदानंद राउतराय

दुश्मन

शरद बिलाैरे

रक़ीब का राग पूरबी

अम्बर पांडेय

जश्न-ए-रेख़्ता (2022) उर्दू भाषा का सबसे बड़ा उत्सव।

फ़्री पास यहाँ से प्राप्त कीजिए