शिकायत पर सवैया

अपने नहिं होत पराए पिया

ठाकुर बुंदेलखंडी

का करियै तुम्हारे मन को

ठाकुर बुंदेलखंडी
बोलिए