नीति पर सवैया

नीति-विषयक दोहों और

अन्य काव्यरूपों का एक विशिष्ट चयन।

लगी अंतर में करै बाहिर को

ठाकुर बुंदेलखंडी

कबहुँक काजु साजु सुष संपति

महापात्र नरहरि बंदीजन