Font by Mehr Nastaliq Web

नीति पर अड़िल्ल

नीति-विषयक दोहों और

अन्य काव्यरूपों का एक विशिष्ट चयन।

दुनिया बिच हैरान जात नर घावई।

चीन्हत नाहीं नाम भरम मन लावई॥

सब दोषन लिये संग सो करम सतावई।

कह गुलाल अवधूत दग़ा सब खावई॥

संत गुलाल

संबंधित विषय

जश्न-ए-रेख़्ता (2023) उर्दू भाषा का सबसे बड़ा उत्सव।

पास यहाँ से प्राप्त कीजिए