noImage

जान कवि

सूफ़ी संत और नीतिकार। ब्रजभाषा पर अधिकार। नीति वर्णन के लिए दोहा और सोरठा छंद का चुनाव।

सूफ़ी संत और नीतिकार। ब्रजभाषा पर अधिकार। नीति वर्णन के लिए दोहा और सोरठा छंद का चुनाव।

जान कवि के दोहे

श्रेणीबद्ध करें

परज्या कौ रक्षा करै सोई स्वामि अनूप।

तर सब कौं छहियाँ करै, सहै आप सिर धूप॥

सदा झूठहीं बोलिहैं, तिहि आदर घटि जाइ।

कबहू बोलै साँचु वहु, तऊ को पतियाइ॥

न्याव कोऊ पाइहै, परै लालची काम।

सोई साचे होत है, जाकी गँठिया दाम॥

ताकौं ढील कीजिए ह्वै जु धरम को काजु।

को जानैं कल ह्वै कहा करिबो सो करि आजु॥

जानि लेहू कवि जान कहि, सो राजत संपूर।

जामै ह्वै ये तीन गुन न्याई दाता सूर॥

तीन भाँति के द्रुजन हैं पंडित कहत बिचित्र।

अप बैरी, बैरी सजन, पुनि द्रुजनन कौ नित्र॥

जो कुछ जैहै हाथ तें, काहू ताकौ सोग।

रोग अंग कौ बहुत हैं, चिंता चित कौ रोग॥

ऐसो रूष लगाइये, जो ह्वै है फलवान।

ब्रिच्छ कटीलौ पालिये, यामै कौन सयान॥

परजा जानहु मूल तुम्ह, राजा ब्रिच्छ बिचार।

अपनी जरहिं उषारिहै, परजा षोवनहार॥

आदुर दये कुजात कूँ, नाहिन होत सुजात।

धोये गोरो ह्वै नहिं हबसी कारो गात॥

ठौर ठौर मनरथ फिरत, कोऊ छूट्यो नाहिं।

मानस की कहिए कहा, पसु पंछिन हू माहिं॥

घटै बढ़ै निकसै छपै, ससि कपटी की पीत।

सदा रहै सम भाइ ही, साधु सूर की रीत॥

जो समावै जगत मैं, ऐसा रूप अपार।

सो मन माहिं समाइहै, तकहु प्रेमु अधिकार॥

रिसु कै बस ना हूजिए, कीजै बात बिचार।

पुनि पछिताये ह्वै कहा, जो ह्वै जाइ बिगार॥

पाँच बात ये जगत मैं, निबहत नाहिं निदान।

लच्छी, सुष, दुष, रूप, छबि, तरुनाई कहि जान॥

दुष दै को रुसाइये, कहत जान सुन मित्त।

ये ते फूटे ना जुरैं, सीसा मुकता चित्त॥

मूरिख सिष मानत नहीं, सकु ज्यों पढ़त काग।

बहरै आगै बाँसुरी बाजै लषै राग॥

उतम पुरुषन की सभा, रहिये निसदिन चाहि।

मूढ़ नरन संग जो रहै, घटि जैहैं बुधि ताहि॥

दुष दीने हूँ देत सुष उत्तम पुरुष सुजानि।

कंचन जेतौ ताइये, तेतौ बारह बानि॥

हँसि हँसि परिहै आपुही, बिनु हाँसी की ठौर।

ताते रोवन है भलौ कहत गुनी सिरिमौर॥