noImage

दयाबाई

1693 - 1773 | मेवात, हरियाणा

'चरनदासी संप्रदाय' से संबंधित संत चरणदास की शिष्या। कविता में सर्वस्व समर्पण और वैराग्य को महत्त्व देने के लिए स्मरणीय।

'चरनदासी संप्रदाय' से संबंधित संत चरणदास की शिष्या। कविता में सर्वस्व समर्पण और वैराग्य को महत्त्व देने के लिए स्मरणीय।

दयाबाई के दोहे

श्रेणीबद्ध करें

आप मरन भय दूर करि, मारत रिपु को जाय।

महा मोह दल दलन करि, रहै सरूप समाय॥

कायर कँपै देख करि, साधू को संग्राम।

सीस उतारै भुइँ धरै, जब पावै निज ठाम॥

जो पग धरत सो दृढ़ धरत, पग पाछे नहिं देत।

अहंकार कूँ मार करि, राम रूप जस लेत॥

मनमोहन को ध्याइये, तन-मन करि ये प्रीत।

हरि तज जे जग में पगे, देखौ बड़ी अनीत॥

'दया' दास हरि नाम लै, या जग में ये सार।

हरि भजते हरि ही भये, पायौ भेद अपार॥

सूरा सन्मुख समर में, घायल होत निसंक।

यों साधू संसार में, जग के सहैं कलंक॥

'दया' सुपन संसार में, ना पचि मरिये बीर।

बहुतक दिन बीते बृथा, अब भजिये रघुबीर॥

अर्ध नाम के लेत ही, उधरे पतित अपार।

गज गनिका अरु गीध बहु, भये पार संसार॥

असु गज अरु कंचन 'दया', जोरे लाख करोर।

हाथ झाड़ रीते गये, भयो काल को ज़ोर॥

श्री गुरदेव दया करी, मैं पायो हरि नाम।

एक राम के नाम तें, होत संपूरन काम॥

चरनदास गुरुदेव ने, मो सूँ कह्यो उचार।

'दया' अहर निसि जपत रहु, सोहं सुमिरन सार॥

जैसो मोती ओस को, तैसो यह संसार।

बिनसि जाय छिन एक में, 'दया' प्रभू उर धार॥

या जग में कोउ है नहीं, गुरु सम दीन दयाल।

मरना गत कू जानि कै, भले करै प्रति पाल॥

जे जन हरि सुमिरन बिमुख, तासूँ मुखहुँ बोल।

राम रूप में जे पगे, तासूँ अंतर खोल॥

कहूँ धरत पग परत कहुँ, डिगमिगात सब देह।

'दया' मगन हरि रूप में, दिन-दिन अधिक सनेह॥

'दया कुँवर' या जक्त में, नहीं रह्यो थिर कोय।

जैसो बास सराँय को, तैसो यह जग होय॥

तात मात तुम्हरे गये, तुम भी भये तैयार।

आज काल्ह में तुम चलो, 'दया' होहु हुसियार॥

राम कहो फिर राम कहु, राम नाम मुख गाव।

यह तन बिनस्यो जातु है, नाहिन आन उपाव॥

साध संग जग में बड़ो, जो करि जानै कोय।

आधो छिन सतसंग को, कलमष डारे खोय॥

बंदौ श्री सुकदेव जी, सब बिधि करो सहाय।

हरो सकल जग आपदा, प्रेम-सुधा रस प्याय॥

कोटि लक्ष व्रत नेम तिथि, साध संग में होय।

विषम व्याधि सब मिटत है, शांति रूप सुख जोय॥

नित प्रति वंदन कीजिये, गुरु कूँ सीस नवाय।

दया सुखी कर देत है, हरि स्वरूप दर साय॥

भाई बंधु कुटुंब सब, भये इकट्ठे आय।

दिना पाँच को खेल है, 'दया' काल ग्रासि जाय॥

राम टेक से टरत नहिं, आन भाव नहिं होत।

ऐसे साधु जनन की, दिन-दिन दूनी जोत॥

सतगुर सम कोउ है नहीं, या जग में दातार।

देत दान उपदेस सों, करैं जीव भव पार॥

गुरु किरपा बिन होत नहिं, भक्ति भाव बिस्तार।

जोग जज्ञ जप-तप 'दया', केवल ब्रह्म बिचार॥

'दया' प्रेम उनमत जे, तन की तनि सुधि नाहिं।

झुके रहैं हरि रस छके, थके नेम ब्रत नाहिं॥

रावन कुंभकरण गये, दुरजोधन बलवंत।

मार लिये सब काल ने, ऐसे 'दया' कहंत॥

ब्रह्म रूप सागर सुधा, गहिरो अति गंभीर।

आनंद लहर सदा उठै, नहीं धरत मन धीर॥

जे गुरु कूँ वंदन करै, दया प्रीति के भाव।

आनंद मगन सदा रहै, निर विधि ताप नसाव॥

साधू सिंह समान है, गरजत अनुभव ज्ञान।

करम भरम सब भजि गये, 'दया' दुर्यो अज्ञान॥

बिरह ज्वाल उपजी हिये, राम-सनेही आय।

मन मोहन सोहन सरस, तुम देखन जा चाय॥

स्वाँसउ स्वाँस बिचार करि, राखै सुरत लगाय।

“दया” ध्यान त्रिकुटी धरै, परमातम दरसाय॥

हँसि गावत रोवत उठत, गिरि-गिरि परत अधीर।

पै हरि रस चसको 'दया', सहै कठिन तन पीर॥

जगत सनेही जीव है, राम सनेही साध।

तन-मन-धन तजि हरि भजे, जिन का मता अगाध॥

सोवत जागत हरि भजो, हरि हिरदे बिसार।

डोरो गहि हरि नाम की, 'दया' टूटै तार॥

हँसि गावत रोवत उठत, गिरि-गिरि परत अधीर।

पै हरि रस चस को ‘दया’, सहै कठिन तन पीर॥

बिन रसना बिन माल कर, अंतर सुमिरन होय।

‘दया’ दया गुरदेव की, बिरला जानै कोय॥

विरह विथा सूँ हूँ विकल, दरसन कारन पीव।

‘दया’ दया की लहर कर, क्यों तलफावौ जीव॥

कोटि जग्य व्रत नेम तिथि, साथ संग में होय।

विषय व्याधि सब मिटत हैं, सांति रूप सुख जोय॥

प्रेम मगन गद्गद बचन, पुलकि रोम सब अंग।

पुलकि रह्यौ मन रूप में, 'दया' ह्वै चित भंग॥

मनसा बाचा करि दया, गुरु चरनों चित लाव।

जग समुद्र के तरन कूँ, नाहिन आन उपाय॥

प्रेम-पीर अतिही बिकल, कल परत दिन रैन।

सुंदर स्याम सरूप बिन, 'दया' लहत नहिं चैन॥

जग तजि हरि भजि दया गहि, कूर कपट सब छाँड़।

हरि सन्मुख गुरु-ज्ञान गहि, मनहीं सूँ रन माँड़॥

जैसो मोती ओंस को, तैसो यह संसार।

बिनसि जाय छिन एक में, ‘दया’ प्रभू उर धार॥

प्रेम मगन जे साधवा, बिचरत रहत निसंक।

हरि रस के माते 'दया' गिनै राव ना रंक॥

हरि रस माते जे रहैं, तिनको मनो अगाध।

त्रिभुवन कू सम्पति दया, तृन सम जानत साध॥

चरनदास गुरुदेव हैं, दया-रूप भगवान।

इंद्रादिक जो देवता, देत जिन्हैं सनमान॥

सुनत सबद नीसान कूँ, मन में उठत उमंग।

ज्ञान गुरज हथियार गहि, करत जुद्ध अरि संग॥

दया दान अरु दीनता, दीनानाथ दयाल।

हिरदै सीतल दृष्टि सम, निरखत करैं निहाल॥