होंठ पर कविताएँ

प्रेम और शृंगार की अभिव्यक्तियों

में कवियों का ध्यान प्रमुखता से होंठों पर भी रहा है। होंठों की सुंदरता और मुद्राएँ कवियों का मन मोह लेती हैं। प्रस्तुत चयन में होंठ को साध्य-साधन रखती कविताओं को शामिल किया गया है।

बोझ

गीत चतुर्वेदी

गुनाह का दूसरा गीत

धर्मवीर भारती

गुनाह का गीत

धर्मवीर भारती

होंठों की जुंबिश

प्रदीप्त प्रीत

जल रहा है

केदारनाथ अग्रवाल

पहला प्यार

साैमित्र मोहन

वह

अतुलवीर अरोड़ा