धूल पर कविताएँ

इस चयन में प्रस्तुत

‘कैसी धूल भरी निर्जनता छाई हुई है चारों ओर’ और ‘किसी चीज़ को रखने की जगह बनाते ही धूल की जगह भी बन जाती’ जैसी कविता में व्यक्त अभिव्यक्तियों के साथ ही आगे बढ़ने की सहूलत लें तो धूल का ‘उपेक्षित लेकिन उपस्थित’ अस्तित्व हमें स्वीकार कर लेना होगा। इस संकलन में प्रस्तुत हैं—धूल के बहाने व्यक्त कुछ बेहतरीन कविताएँ।

धूल की जगह

महेश वर्मा

शहर

नीलेश रघुवंशी

धूल, गंध और पतंगें

अशोक कुमार पांडेय

धूल

सर्वेश्वरदयाल सक्सेना

हँसा बहुत ज़ोर से

शैलेंद्र दुबे

मैं आऊँगा

पंकज सिंह

रंग का फ़र्क़

शिवमंगल सिद्धांतकर

क्षितिज पर धूल

विजय बहादुर सिंह

धूल

लाल्टू

एक ऋचा धूल के लिए

रति सक्सेना

जश्न-ए-रेख़्ता (2022) उर्दू भाषा का सबसे बड़ा उत्सव।

फ़्री पास यहाँ से प्राप्त कीजिए