Rahim's Photo'

रहीम

1556 - 1627 | दिल्ली

भक्तिकाल के प्रमुख कवि। व्यावहारिक और सरल ब्रजभाषा के प्रयोग के ज़रिए काव्य में भक्ति, नीति, प्रेम और शृंगार के संगम के लिए स्मरणीय।

भक्तिकाल के प्रमुख कवि। व्यावहारिक और सरल ब्रजभाषा के प्रयोग के ज़रिए काव्य में भक्ति, नीति, प्रेम और शृंगार के संगम के लिए स्मरणीय।

रहीम की संपूर्ण रचनाएँ

दोहा 51

कहि रहीम इक दीप तें, प्रगट सबै दुति होय।

तन सनेह कैसे दुरै, दृग दीपक जरु दोय॥

रहीम कहते हैं कि जब एक ही दीपक के प्रकाश से घर में रखी सारी वस्तुएँ स्पष्ट दीखने लगती हैं, तो फिर नेत्र रूपी दो-दो दीपकों के होते तन-मन में बसे स्नेह-भाव को कोई कैसे भीतर छिपाकर रख सकता है! अर्थात मन में छिपे प्रेम-भाव को नेत्रों के द्वारा व्यक्त किया जाता है और नेत्रों से ही उसकी अभिव्यक्ति हो जाती है।

रूप, कथा, पद, चारु पट, कंचन, दोहा, लाल।

ज्यों ज्यों निरखत सूक्ष्मगति, मोल रहीम बिसाल॥

रहीम कहते हैं कि किसी की रूप-माधुरी, कथा का कथानक, कविता, चारु पट, सोना, छंद और मोती-माणिक्य का ज्यों-ज्यों सूक्ष्म अवलोकन करते हैं तो इनकी ख़ूबियाँ बढ़ती जाती है। यानी इन सब की परख के लिए पारखी नज़र चाहिए।

आप काहू काम के, डार पात फल फूल।

औरन को रोकत फिरै, रहिमन पेड़ बबूल।।

रहीम कहते हैं कि कुछ व्यक्ति दूसरों का कोई उपकार तो करते नहीं हैं, उलटे उनके मार्ग में बाधाएँ ही खड़ी करते हैं। यह बात कवि ने बबूल के माध्यम से स्पष्ट की है। बबूल की डालें, पत्ते, फल-फूल तो किसी काम के होते नहीं हैं, वह अपने काँटों द्वारा दूसरों के मार्ग को और बाधित किया करता है।

कमला थिर रहीम कहि, लखत अधम जे कोय।

प्रभु की सो अपनी कहै, क्यों फजीहत होय।।

रहीम कहते हैं कि लक्ष्मी कहीं स्थिर नहीं रहती! मूर्ख जनों को ही ऐसा लगता है कि वह उनके घर में स्थिर होकर बैठ गई है। उस मूर्ख की फ़ज़ीहत कैसे नहीं होगी जो लक्ष्मी को (जो नारायण की अर्धांगिनी है) अपनी मानकर चलेगा!

करत निपुनई गुन बिना, रहिमन निपुन हजूर।

मानहु टेरत बिटप चढ़ि, मोहि समान को कूर॥

कवि रहीम कहते हैं कि स्वयं गुणों से रहित होने अर्थात अवगुणी होने पर भी जो गुणियों के समक्ष चतुराई दिखाने की कोशिश करता है, तो उसकी पोल खुल जाती है और वह पकड़ा जाता है। उसका यह प्रयास ऐसा होता है कि मानो वह वृक्ष पर चढ़कर अपने पाखंडी होने की घोषणा कर रहा हो, स्वयं को चिल्ला-चिल्लाकर बेवक़ूफ़ बता रहा हो।

पद 2

 

सवैया 4

 

कवित्त 3

 

सोरठा 1

 

"दिल्ली" से संबंधित अन्य कवि

  • मलयज मलयज
  • संजय चतुर्वेदी संजय चतुर्वेदी
  • केदारनाथ सिंह केदारनाथ सिंह
  • वृंद वृंद
  • रघुवीर सहाय रघुवीर सहाय
  • कुँवर नारायण कुँवर नारायण
  • कैलाश वाजपेयी कैलाश वाजपेयी
  • शुभम श्री शुभम श्री
  • ऋतु कुमार ऋतु ऋतु कुमार ऋतु
  • नीलाभ नीलाभ