Ashok Vajpeyi's Photo'

अशोक वाजपेयी

1941 | दुर्ग, छत्तीसगढ़

समादृत कवि-आलोचक और संस्कृतिकर्मी। साहित्य अकादेमी पुरस्कार से सम्मानित।

समादृत कवि-आलोचक और संस्कृतिकर्मी। साहित्य अकादेमी पुरस्कार से सम्मानित।

श्रेणीबद्ध करें

कविता एकांत देती है।

जितना कवि समय को, उतना ही समय कवि को गढ़ता है।

कविता भाषा का भाषा में स्वराज है।

कविता अपने सच पर ईमानदार शक करती है।

कविता परम सत्य और चरम असत्य के बीच गोधूलि की तरह विचरती है।

कविता आत्म और पर के द्वैत को ध्वस्त करती है।

अगर कविता होती तो राम और कृष्ण भी यथार्थ होते।

शिल्प भाषा का अंतःकरण है।

कविता का काम संसार के बिना नहीं चलता। वह उसका सत्यापन भी करती है और गुणगान भी।

कविता व्यक्ति को दूसरा बनाए जाने के क्रूर अमानवीय उपक्रम के विरुद्ध सविनय अवज्ञा है।

कविता यथार्थ का बिंब भर नहीं होती। वह उसमें कुछ जोड़ती, इज़ाफ़ा करती है।

कविता समाज नहीं, व्यक्ति लिखता है, फिर भी कविता एक सामाजिक कर्म है।

कविता कवि, पाठक और श्रोता का साझा सच है।

साहित्य, लालित्य के बचाव में प्रयत्नशील बने रहने की भी भूमि है।

  • संबंधित विषय : कला

कविता सरलीकरण और सामान्यीकरण के विरुद्ध अथक सत्याग्रह है।

कविता भाषा का शिल्पित रूप है, कच्चा रूप नहीं।