Phanishwarnath Renu's Photo'

फणीश्वरनाथ रेणु

1921 - 1977 | पूर्णिया, बिहार

समादृत कथाकार। कुछ कविताएँ भी लिखीं। समाजवादी और आंचलिक संवेदना के लिए उल्लेखनीय। पद्मश्री से सम्मानित।

समादृत कथाकार। कुछ कविताएँ भी लिखीं। समाजवादी और आंचलिक संवेदना के लिए उल्लेखनीय। पद्मश्री से सम्मानित।

फणीश्वरनाथ रेणु की संपूर्ण रचनाएँ

कविता 13

कहानी 1

 

उद्धरण 5

एक कीड़ा होता है—अँखफोड़वा, जो केवल उड़ते वक़्त बोलता है—भनु-भनु-भन्! क्या कारण है कि वह बैठकर नहीं बोल पाता? सूक्ष्म पर्यवेक्षण से ज्ञात होगा कि यह आवाज़ उड़ने में चलते हुए उसके पंखों की है।

  • शेयर

साहित्यकार को चाहिए कि वह अपने परिवेश को संपूर्णता और ईमानदारी से जिए।

  • शेयर

लेखक के संप्रेषण में ईमानदारी है तो रचना सशक्त होगी—चाहे जिस विधा की हो।

  • शेयर

साहित्य की पौध बड़ी नाज़ुक और हरी होती है। इसे राजनीति की भैंस द्वारा चर लिए जाने से बचाए रख सकें तभी फ़सल हमें मिल सकती है।

  • शेयर

सूक्ष्मता से देखना और पहचानना साहित्यकार का कर्तव्य है—परिवेश से ऐसे ही सूक्ष्म लगाव का संबंध साहित्य से अपेक्षित है।

  • शेयर

"बिहार" से संबंधित अन्य कवि

  • अरुण कमल अरुण कमल
  • आलोकधन्वा आलोकधन्वा
  • नागार्जुन नागार्जुन
  • सुधांशु फ़िरदौस सुधांशु फ़िरदौस
  • अनुज लुगुन अनुज लुगुन
  • अनीता वर्मा अनीता वर्मा
  • राजकमल चौधरी राजकमल चौधरी
  • मनोज कुमार झा मनोज कुमार झा
  • मिथिलेश कुमार राय मिथिलेश कुमार राय
  • सत्येंद्र कुमार सत्येंद्र कुमार