noImage

नागरीदास

1699 - 1764 | किशनगढ़, राजस्थान

किशनगढ़ (राजस्थान) नरेश। प्रेम, भक्ति और वैराग्य की साथ नखशिख की सरस रचनाओं के लिए ख्यात।

किशनगढ़ (राजस्थान) नरेश। प्रेम, भक्ति और वैराग्य की साथ नखशिख की सरस रचनाओं के लिए ख्यात।

नागरीदास की संपूर्ण रचनाएँ

दोहा 39

अरे पियारे, क्या करौ, जाहि रहो है लाग।

क्योंकरि दिल-बारूद में, छिपे इस्क की आग॥

  • शेयर

इस्क-चमन महबूब का, जहाँ जावै कोइ।

जावै सो जीवै नहीं, जियै सु बौरा होइ॥

  • शेयर

थिर कीन्हेंचर,चर सुथिर, हरि-मुख मुरली बाजि।

खरब सुकीनो सबनि कों, महागरब सों गाजि॥

  • शेयर

सीस काटिकै भू धरै, ऊपर रक्खै पाव।

इस्क-चमन के बीच में, ऐसा हो तो आव॥

  • शेयर

कहूँ किया नहिं इस्क का, इस्तैमाल सँवार।

सो साहिब सों इस्क वह, करि क्या सकै गँवार॥

  • शेयर

पद 18

सवैया 1

 

कवित्त 2

 

अड़िल्ल 14

"राजस्थान" से संबंधित अन्य कवि

  • कृष्ण कल्पित कृष्ण कल्पित
  • चरनदास चरनदास
  • अजंता देव अजंता देव
  • प्रभात प्रभात
  • संजीव मिश्र संजीव मिश्र
  • विनोद पदरज विनोद पदरज
  • जसनाथ जसनाथ
  • अनिरुद्ध उमट अनिरुद्ध उमट
  • मीरा मीरा
  • देवयानी भारद्वाज देवयानी भारद्वाज